Tuesday, May 29, 2018

रतनार दोहे

रतनार दोहे ...

झुक कर झुमके ने कहा, ...नथ से बारंबार ।
इतना क्यों इतराय हैं, ....मुख चूमे हर बार ।।

चूड़ियाँ  बैरन निकली, ...खनके आधी रात ।
पैंजनियों के शोर में, ....दब गइ आधी बात ।।

गजरा महका रात भर,.. ....कजरारे से नैन ।
गहमा गहमी में रहे,. ....मुख से निकरे बैन ।।

सर सर नयनों के चले,.... सायक मेरी ओर ।
मंद मंद मुस्काय जब,... हृदय चले ना जोर ।।

वासन्ती परिधान हैं,.....कातिल हैं मुस्कान ।
नयन कटारी ज्यों चले,.... कामदेव के बान ।।

बलखाये जब वो चले, ज्यों हिरणी की चाल ।
उलझी उलझी लट बुने, ..गहरा माया जाल ।।

कंचन काया कौमुदी, कोमल कलि कचनार​ ।​
क्या मैं उसको नाम दूं​,​ मुख जिसका रतनार​ ।।​

हरीश भट्ट
(चित्र-साभार सीमा हरीश भट्ट)