Monday, July 10, 2017

माहिया

शुभ संध्या दोस्तों
...माहिया छंद ...

उस पार खड़ी थी वो,-2
......सोणी लगती थी
कम-उम्र बड़ी थी वो ।।

दरिया ये बहता हैं ,-2
.......दूर किनारे हैं
बस इतना कहता हैं ।।

मिलने की जल्दी हैं, -2
.....कब तक आओगे
अब जान निकलती हैं ।।

कहती शहनाई हैं,-2
....प्रीत न करना तू
ये पीर पराई हैं ।।

इश्के दी रुत आई,-2
.....नाल परांदे दे
गुत तेरी लहराई ।।

अम्बियों के गुच्छे हैं,-2
.....तोड़ न देना तू
अभी उम्र में कच्चे हैं ।।

तुझ बिन सब रीत गया,-2
....कब तक याद करें
जीवन तो बीत गया ।।

दुनिया थी बाहों में,-2
.....यार गवां बैठे
हम इश्क़ की राहों में ।।

....हरीश....

Thursday, July 6, 2017

नदी सी हो तुम न

नदी सी हो ना तुम

तुम
झरने सी थी न तुम
बेलाग -बेखौफ़- निर्झर
निष्कपट, निष्कलंक भी
छन्न से गिरा करती थी
तलैइयों में
शायद बचपन था तुम्हारा
और बचपना भी !

तुम्हारा उफ़ान बेजोर हैं अब
तोड़ देती हो कभी कभी
स्वयं के तटबंधों को
यौवन का विस्तार उश्रंखलित हैं
चिर यौवना नदी सी
लगने लगी हो
अब तुम !

विस्तार बड़ रहा हैं तुम्हारा
समवेत हैं अब
सब कुछ तुममे
विचलित नहीं होती हो
अब तुम बाह्य प्रतिबंधों से
गाम्भीर्य अनवरत हैं तुममे
निरंतरताओं में
कैसी स्थिरता हैं अब ये
दरियाह होने की
विडम्बना भी !

कल ,
विस्मृत हो जाओगी तुम
निराकार भी
तिरोहित होने को हो अब
खिलखिलाती चंचलता
मदमस्त उश्रंखलता
भरपूर यौवन
और सम्पूर्ण गाम्भीर्य के साथ
अनंत सागर के
आगोश में !!
नियति..यही होगी तुम्हारी !!
....हरीश....

यादें तुम्हीं ने कहा था

""यादें""....तुम्हीं ने कहा था न ...
यूं ही तो कहीं
मिल जाती हैं
भूली बिसरी सी यादें,
किसी तन्हां दराज
या किसी
पुराने ब्रीफकेस
की जेबों में,
कोई नॉवल
या कालेज की
किताबों में,
...कुछ पत्तियां
सूखे गुलाब की,
....कुछ पीत
अतीत के पन्ने,
..धुंधलाये से कुछ
ग्रीटिंग कार्डस,
...अधलिखा सा
गुलाबी लेटरहेड,
पहले पहले गिफ्ट का
"लव यूं" वाला रैपर,
..उखड़ी उखड़ी सी
ब्लैकनवाईट तस्वीरें,
..कालेज कैंटीन
की आंखरी बेंच पे
उकेरा हुआ
...कोई नाम,
चमक खोता
जर्किन जड़ा टाई पिन,
...टूटा हुआ
मैंचिंग कफ बटन,
प्रेस से जली
..चैक वाली
हाफ शर्ट,
नाम के अक्षर वाला
..की रिंग,
..खाली परफ्यूम की
दिलकश शीशी,
सलवटों मैं गुम
..फिरोजी सा रुमाल,
यूं ही तो कहीं
मिल जाती हैं
...यादें....!
तुम बताओ तो
..तुम्हें याद हैं..
तुम्हीं ने कहा था
""यादों की कोई..
........शक्ल नहीं होती !!

अधूरा चाँद

अधूरा "चाँद" हैं 
...उस पार 
और "हसरत" बड़ी हैं  
सुलगता आसमां  
....उस पर  
"सितारों" की  लड़ी हैं
वो मेरी "हमनफस" हैं 
....हमकदम   
मेरी "कमसिन" परी हैं    
बहुत मासूम  हैं 
...लेकिन 
मेरे रेशम के कुरते पे 
वो चांदी  सी  जरी हैं 

जरा सा ये 
.....कहा मैंने... 
की "सुरमई शाम" रोशन  हैं 
...जो दिल में  हैं 
वो मुझसे आज "कह दो"... 
सुनो उसकी 
....वो कहती हैं 
अगर मुझसे 
....."मोहब्बत" हैं 
मुझे वो चाँद "ला दो"... 

बताओ अब मेरे यारो 
....की क्या कह दूं 
यही मुश्किल बड़ी हैं 
....और इक "वो" हैं  
बहुत "जिद्दी" 
.....की तब से ही   
इसी जिद पे 
......अड़ी  हैं 
की गुस्से में खड़ी  हैं 

वट सावित्री व्रत

वट सावित्री 

सुनो  
ये जो सितारों जड़े  
आसमान को 
झिलमिल साडी बना 
ममत्व का 
प्रदीप्त दुप्पट्टा खींच  
कुमकुम की  
सिन्दूरी  आभा 
सजाई   हैं तुमने 
उन्नत ललाट पर 
सदा सुहागन सा ये 
मांग टीका   
अधरों तक बलखाती 
दूज का चाद सी 
तुम्हारी ये नथ
कर्ण फलकों को छूते 
कुंडल 
देव सुता सी तुम  
अवर्णनीय सी 
लगती हो  
मैं 
ये तो नहीं जनता 
की वजह  
निर्जल उपवास 
हैं या तुम्हारा अडिग 
 विश्वास 
ये भी नहीं की 
एक जन्म का हैं ये 
या जन्म जन्मान्तर का साथ 
पर वो चौथ  का चाँद 
आज फीका जरूर हैं 
इस पूनम के चाँद के आगे 
तुम्हारा विश्वास बहुत बड़ा हैं 
किसी भी उपवास 
या नियमबद्धता से 
कहने को तो 
उपवास 
मैंने भी तो रक्खा हैं 

माँ भी कभी बूढ़ी होती हैं

उम्र की देहरी पर 
दस्तक देती 
अनमनी साँझ की 
आंखमिचोली 
अधपके घुंघराले बाल 
बिंदी टीकोली 
क्या खूब 
फब्ती हैं तुम पर !   

आँखों मैं सजाये  
कुछ मखमली ख्वाब 
अस्मिता का बंधन 
हर्ष जनित अश्रु 
मुस्कान हसीं क्रंदन
मेरे ही इन्तजार में न !

देख लेना 
लौटा रहा हूँ खुद को  
पहुच ही जाऊंगा 
तुम्हारे हाथों की
लकीरों के
मिटने से पहले

एक बात कहूं   
चिरयौवना ही तो हो तुम 
सदैव ही 
हो भी क्यों न  
मां भी कभी 
बूढी होती हैं भला !! 
,,...हरीश भट्ट ,,,..

मुक्तक

दो पंक्तियाँ इस बदल पर ...

कभी नजरें नहीं बदली, कभी मंजर नहीं बदले !
रकीबों के उन हाथों में, कभी खंजर नहीं बदले !! 
जमाना तो बदलता ही रहा था, पहली फुर्सत में !
 तुम्हारे आसूंओ से भी ...मेरे बंज़र  नहीं बदले !!
 ...हरीश ..


मुफलिसी बेचारगी, जब से नुमाया हो गई 
मुख़्तसर  सी उम्र थी, वो भी जाया हो गई 
रोज ही बढ़ती गई चेहरे पे उनकी शोखिया
और मेरे हिस्से की उजली धूप साया हो गई