Monday, June 27, 2016

पिता की सकून

हर पिता की सुकून-ए -ज़ां होती हैँ बेटियां !
दुश्वारियां आ जाये तो माँ होती हैँ बेटियां !