Thursday, July 21, 2016

बहुत थका सा हैं कन्धा, सुकून मिल जाता !
मैं अपने सर को ज़रा सा उतार लेता अगर !!
.......हरीश....