Monday, June 27, 2016

वो ये कह के, रस्म-ए-मोहब्बत निभा गई अपनी !!
चल छोड़, कि तुझको तो मनाना भी नहीं आता !!!