Monday, June 27, 2016

अब वो रोशन

अब वो रोशन, किसी अौर ही आस्मां होगा !
वो चाँद जो सुबह तक, मेरे फ़लक पर था !!
......हरीश ....