Monday, June 27, 2016

में रोज खत

मैं रोज़, 'ख़त' लिखा करता हूँ, तेरी 'उम्मीदों' को !
ग़र हो सके.... तो ज़रा... अपना 'पता' दे देना !!