Thursday, April 7, 2011

आस का दिया


दूर  तक ,
जाते देखा करता हूँ ,
उस दिए को मैं ,
गंगा की लहरों  पर ,
अपनी तमाम ,
श्रद्धेयता  के साथ !
विसर्जित किया था जिसे मैंने, 
अठखेलियाँ  करता वो ,
हिचकोले खाता,
रुकता रुकाता ,
लड़ता  रहता हैं ,
तेज हवा और ,
पावन लहरों से भी  !

उसके साथ तैर जाती हैं ,
मेरी 
कुछ  हसरते,
कुछ  सपने ,
कुछ  उम्मीदे ,
कुछ  मन्नते भी ,
अठखेलियाँ करती ,
हिचकोले खाती ,
नियति से लडती !
और वो ,
ओझल हो जाता हैं ,
कुछ दूर बाद ,
आँखों से,

मेरा मन ,
मानता नहीं
मेरी श्रद्धा ,
टूटती नहीं 
की,
गंगा की पावन ,
और उदार,
पर तीक्ष्ण लहरों ने,,
लील ही लिया होगा उसे,
मेरी तमाम ,
हसरतों , संभावनाओ, उम्मीदों, 
और मन्नतों के साथ !!!
क्या पता  पार हुआ हो वो 
या नहीं,  क्या पता ....
श्रद्धा की भी 
कोई लक्ष्मण  रेखा होती  हैं क्या  ??
क्या पता ​!!??