Saturday, March 17, 2012

उस ख़त के कुछ पन्ने,..


बस यूं ही झिलमिल, आँखों से हँसता हूँ!
उस ख़त के कुछ पन्ने, जब भी पढता हूँ.!!...

बोझिल से दिन, तन्हां रातों को लिखती थी !
बचकानी सी कुछ बातें जो, तुम लिखती थी !!
सपनीले ख्वाबों  कि बातें, लिखती थी तुम !
जागी आँखों के सपने भी, तुम लिखती थी !!
अब तक इन आँखों में, उनको ही घढ़ता हूँ !
उस ख़त के कुछ पन्ने, जब भी पढता हूँ...!!.

अपना नाम कहीं कहीं पर, कम लिखती थी !
मेरा  नाम बढ़ा सा लेकिन, तुम लिखती थी !!
कविताये और नज्में भी,, लिखती थी तुम !
गालीब, मीर, मजाज भी, तुम लिखती थी !!
कैसे थे सपनीले दिन, अब सोचा करता हूँ !
उस ख़त के कुछ पन्ने,.. जब भी पढता हूँ...!!.

चिड़ियों कि बाते चटकीली, तुम लिखती थी !
तितली कि इतराहट पर भी तुम लिखती थी !!
बीते कल कि सब बातें भी,लिखती थी तुम !
आज नहीं आओगी  ये भी, तुम लिखती थी !!
याद न जाने तुम्हे आज भी.. क्यों करता हूँ !
उस ख़त के कुछ पन्ने,.. जब भी पढता हूँ...!!.

कब रूठे कब मान गए, ये भी लिखती थी !
पल पल के झगड़ों को भी, तुम लिखती थी !!
कल क्या पहनू ये लिख के, पूछा करती थी !
मैंने क्या पहना था ये भी, तुम लिखती थी !!
मन का खाली सूनापन, अब यूंही भरता हूँ !
उस ख़त के कुछ पन्ने,.. जब भी पढता हूँ. !!

जीने और मरने कि कसमे, तुम लिखती थी !
राधा कि भी प्रीत कि रस्मे, तुम लिखती थी !!
शायद हम ना मिल  पाएंगे, लिखती थी तुम !
शीरी और फरहद के किस्से, तुम लिखती थी !!
अन्धियाले सन्नाटों से मैं ..अब भी डरता हूँ !
उस ख़त के कुछ पन्ने,.... जब भी पढता हूँ. !!