Wednesday, March 2, 2011

क्यों न मैं शंकर हो जाऊं



महाशिवरात्रि की शुभकामनाओं के साथ समर्पित

ईश्वर,, ऐसा वर दे मुझको ! 
क्यों न मैं, शंकर हो जाऊं !!
विष पिलूं मैं, जग का सारा ! 
नीलकंठ, जग में कहलाऊँ !!

हो प्रदीप्त ये... छाया मेरी !
दोष विहीन हो, काया मेरी !!
आदर्शों की, भस्म रमा कर !
ओरों को, सत्पथ पर लाऊं  !!
ईश्वर,, ऐसा वर दे मुझको ! क्यों न में, शंकर हो जाऊं !!

हो त्रिशूल वो, कर में ऐसा !
श्रीहरी के हो, वज्र के जैसा !!
दुष्कर्मों का, नाश करे जो !
पाशुपास्त्र, तुरीण मैं ऐसा !!
दुष्टों का, संहार कर सकूं !
नभ में, धर्मध्वजा लहराऊँ !!
ईश्वर,, ऐसा वर दे मुझको ! क्यों न में, शंकर हो जाऊं !!

शैल सुता, हिम्मत हो मेरी !
क्रोधाग्नि,, ताकत हो मेरी !!
तम मेरा,, सहचर हो जाये !
तिमिर संग, संगत हो मेरी !!
अवगुण मेरे, गुण बन जाये !
अपने में ....परिवर्तन लाऊं !!
ईश्वर,, ऐसा वर दे मुझको ! क्यों न में, शंकर हो जाऊं !!

संहारक, शिवदूत भी मैं हूँ !
दुख्भंजक अवधूत भी मैं हूँ !!
नीलेश्वर कालेश्वर भी मैं !
सोमनाथ औ' भूत भी मैं हूँ !!
पार्वती अर्धांग हो.... केवल !
सति को ही हर रूप मैं पाऊँ !!
ईश्वर,, ऐसा वर दे मुझको ! क्यों न में, शंकर हो जाऊं !!