Friday, April 22, 2016

उम्र भर मैं ही, एहतीयात का पाबंद रहा हूँ !

तुमको तो दिल लगाने का, शऊर कहाँ था !!