Friday, April 22, 2016

हाँ !! तुमसे ही कह रहा हूँ …(अजीब-ओ-गरीब दोस्तों के लिए )


जब भी मिलते हो,,,,,,,, खफा मिलते हो !
तिलमिलाए हुये भी बाज़ दफ़ा मिलते हो !!


सीधे मुंह बात हो,,,,,, तो पूछना था मुझे !
यूं ही मिलना हैं तो,,,,,, क्यों मिलते हो ??